Home Blog Page 4

Top 8 Ranking Factors Google

0
Top 8 Ranking Factors Google

आज हम आपको 2018 और 2019 के SEO मै फर्क समझायेंगे, 2019 में हमे वेबसाइट को google में top rank में लाने के वास्ते नए तरीके से content optimize करना सीखना पड़ेगा जिस से हम उसका organic traffic बड़ा सके। इस post में 2019 के टॉप 10 google ranking उपाय बताएँगे।

Google के द्वारा 170 से भी ज्यादा ranking factors इस्तेमाल किये जाते है। और प्रति year google new ranking signals और changes कर रहा है अपने अल्गोरिथम मै जिस से अब पुराना तरीका बंद हो जायेगा।

Webmaster को अपनी website को Google search में top में लाने के लिए google ranking factors के हिसाब से कंटेंट डाले और उसके हिसाब से चले अगर आपको अपनी website पर Traffic चाहिए तो।

Google ranking factors में जो सबसे पहला point है वो ये है की आपकी Website से mobile-first indexing सबसे पहले होती है और भी बहुत न्यू रूल्स है जिस से वो optimized होती है आइये जाने other पॉइंट।

1। Search Intent

जब google search में user कुछ search करता है तो उसका मन ये कहता है की उसे अछि जानकारी मिले जिस से वो उस Website पर trust कर सके।

वो सटीक और अच्छी जानकारी हो।

अब आगे 2019 से यही होगा जिसका कंटेंट search query से जितना ज्यादा relevant होगा उसको उतनी ऊपर जगह मिलेगी गूगल की तरफ से।

2। Content Keywords

२०१९ में भी पोस्ट title में keywords का इस्तेमाल करना powerful ranking factor होगा अब जानते है ये क्यों होगा तो Google ने अब अपने अल्गोरिथम को ऐसा कर दिया की content की वैल्यू पर सब depened है।

इसके अलावा img alt tag, heading, highlight words भी बहुत useful है लेकिन जो लोग अपने post को keyword से ही भर दे तो उनका content rank नहीं करेगा।

3। CTR
CTR google के लिए सबसे strongest relevance signal है क्योकि इस से पोस्ट को ranking मै बहुत अच्छी position मिलेगी , और इसमें कोई doubt नहीं है। CTR search रैंक बहुत खास role play करेगा।

गूगल आज बहुत अच्छे से maintain कर रहा है जिस से website बहुत तेज़ी से गूगल सर्च मै आजाती है।

4। Explained Content

जहा तक आज गूगल की जो प्रोसेस है उस से ये कहा जा सकता है की गूगल आज उस पेज को रैंक करता है जो यूजर की keyword पर depend होता है matlb यूजर ने जो गूगल पर डाला गूगल वैसा ही कंटेंट देगा।

इसीलिए अब आपको blog post में keywords के लिए कंटेंट लिखने से अच्छा है की उसे अच्छे से explain करे जिस से वो rank होगी और Traffic बढ़ेगा।

मैं यही कह सकता हु की आज गूगल यूजर की फुल Help करता है।

5। Grammar

सबसे बड़ा नुकसान किसका है तो यहां एक ही ब्लॉगर याद आते है जिनकी grammar सही नहीं। क्योकि कल तक ये बात यूजर को पसंद नहीं आती लेकिन आज ये गूगल को भी अच्छी नहीं लगती।

जिस Content मै Grammar मिस्टेक ज्यादा हो उसे गूगल rank नहीं करेगा। पब्लिश करने से पहले Grammar check कर ले।

6। Unique Content

2019 में google में ऐसी websites दिखाई नहीं देगी जो डुप्लीकेट या copied content provide करती हो। Google पहले से ऐसी websites को penalize करता है लेकिन अब इस पर deeply action लेगा।

Confirm कर ले की आपकी website में कोई duplication कंटेंट नहीं है, अगर आपको लगता है की आपकी website पर duplicate page हो सकते है तो आप Copyscape पर चेक कर ले।

7। Well-structured HTML

अपनी website के HTML markup को क्लियर वे से organize करके आप search engine को ये समझने में help कर सकते है की आपका content real में क्या है । Search engines अभी भी स्ट्रक्चर markup or semantic markup पर believe करते है।

इसीलिए, अगर आपके content में bad HTML markup है तो आपका content कितना भी अच्छा हो, तब भी search engine spider को लगेगा की ये bad quality content है।

अपनी website के content HTML makrup को और ज्यादा clear बनाने के लिए schame markup का इस्तेमाल करे, Structured data markup helper or Structured data testing tool इसमें आपकी help कर सकते हैi।

8। Link Authority

कोई फर्क नहीं पड़ता की आपके पास कितने backlinks है, फर्क पड़ता है backlink quality से की आपके पास कितने high quality backlink है, बेकार backlink आपकी website को top rank दिलाने की जगह उल्टा rank down कर देंगे।

एसएससी क्या होती है और उसकी तैयारी कैसे करे

0
एसएससी क्या होती है और उसकी तैयारी कैसे करे

आज के दौर मै जॉब बहुत बड़ा issue है सभी नोजवानो के लिए ये उनकी नींद ख़राब कर देता है। उन्हे अपने future की Tension होने लगती है जिस से उन्हें depression तक हो जाता है और जब बात सरकारी जॉब (Goverment Job) की आती है तो कही न कही आज का नोजवान उसे पाना चाहता है तो आज हम सरकारी जॉब के बारे मै बात करेंगे तो अभी मै शुरू करूँगा Step by Step ।

आज कल के Student सभी को यही चाहिए लेकिन मिल नहीं पाती क्योकि आज इसमें बहुत कम्पटीशन और बहुत हार्ड हो गया है जिस से कुछ लोगो के Dream पुरे नहीं हो पाते।

आजकल जो भी Student है सबके लिए ये बहुत मुश्किल रहता है की वो क्या करे लेकिन हम आज आपको बातएंगे की college की डिग्री लेकर आप किस की तैयारी करो। हम यहाँ बात करते है SSC ये नाम कही न कही सब ने सुना है किस ssc कुछ होता है यहाँ तक की आज के नोजवानो के दिमाग मै सरकारी Job का नाम आते ही SSC जरूर आता है ख्याल मै। लेकिन कुछ लोगो को इसकी जानकारी नहीं होती की ये क्या है और इसकी तैयारी कैसे करू और क्या करू की मै ssc का एग्जाम दे सकू। ऐसे बहुत सवाल है लोगो के दिमाग मै लेकिन इनसब का यही एक उपाय है की आप Post पूरी पड़े और आपको जो समझ मै न आये वो बताये। आप हमे कमेंट एंड contact कर सकते है हमे आपकी Help कर के खुशी होगी।

यह पोस्ट new student के लिए काफी फायदेमंद होगी तो आप से गुजारिश है की अंत तक पड़े और SSC से related जानकारी प्राप्त करे और अपने दोस्तों को भी शेयर करे। क्योकि आजकल बहुत लोग अपना सपना पूरा नहीं कर पाते क्योकि उन्हें कही से उस related सही जानकारी नहीं मिल पाती।

सबसे अच्छा पॉइंट उन लोगो के लिए जो अभी तयारी कर रहे है SSC की और कभी वो जाने अनजाने मै ये बात भूल ही जाते है की सबसे छोटा question उनके लिए उनका सर दर्द हो जायेगा जैसे की SSC की full Form क्या होती है?

आइये सबसे पहले आपको ये बताये की आखिर इस SSC का पूरा नाम क्या है?

SSC (एसएससी) Full Form : Staff Selection Commission

अब आपने सबसे Important सवाल का जवाब मिल गया लेकिन अभी भी बहुत ऐसे सवाल है जो आपको पता होना चाहिए जैसे की SSC करता क्या है?

अब आपको बताते है एसएससी का प्रमुख काम कार्य आयोग की नीतिया तैयार करना होता है जैसे की उस department मै क्या निति लागु होगी और क्या पूरी होगी और किस से वो लागु होगी और कोण उसे लागु करेगा । SSC को पहले और कुछ नाम से भी जाना जाता था वो नाम था अधीनस्थ सेवा आयोग । लेकिन १९७७ मै ये नाम बदल दिया गया और नया नाम एसएससी रखा गया। इसे हिंदी मै क्या बोलते है तो उसका जवाब ये है की इसे कर्मचारी चयन आयोग कहते है।

अगर आपको अभी भी समझ न आया हो तो आपको simple भाषा मै समझाता हु की एसएससी एक सरकारी संस्था है जिसका control Goverment के पास है पुरे हिन्दुस्तान मै सरकारी Department मै होने वाली भर्ती इसके दवारा ही की जाती है और सबका जो भी Setup
हो उसको एसएससी ही देखता है और पूरा responsible होता है और ये ये भी देखता है की इस department मै होने वाली भर्तिया भी यही करता है।

ssc के अंदर बहुत सी exam होते है यहाँ मै आपके लिए कुछ के बारे मै बताऊंगा जिस से आपको बहुत से सवालो के जवाब मिल जायेगे।

१। CGL

आये सबसे पहले CGL का मतलब जान लेते है जिस से आपको अच्छी से समझ आजाये की इसका मतलब क्या होता है तो CGL मतलब combined graduate level examination है। अब बात करते है की CGL के लिए आपको क्या करना होगा तो सबसे पहले आपको ग्रेजुएट होना जरूरी है। इस exam को पास करने क बाद आपको खाद्य विभाग या आयकर विभाग मै रखा जाता है।

२। SSC CHSL

इसका मतलब बहुत आसान होता है CHSL : combined higher secondary level । इस एग्जाम क लिए आपको 12वीं पास होना जरूरी। इसको पास करने वाले क्लर्क,LDC के पद पर रहते है।

३। SSC STENO

ये भी SSC का हिस्सा है और इस exam के लिए आपको 12वीं पास होना जरूरी है।

४। SSC CRPF

अब एक नया पॉइंट है वो है CRPF । इसका मतलब central armed police force होता है और ये exam पुलिस कर्मचारियों के लिए लिया जाता है।

ब्लॉग पर Traffic कैसे बढ़ाये जिस से इनकम ज्यादा हो

0
ब्लॉग पर Traffic कैसे बढ़ाये जिस से इनकम ज्यादा हो

Online business आज के दौर में कोई भी हो। सबके लिए high traffic की जरुरत पड़ती है। Blogging भी पूरी तरह traffic के ऊपर निर्भर है। जिस blog पर जितना high traffic होगा वो उतना ही popular or better ब्लॉग होगा । इस post में मई आपको blog की traffic बढ़ने के सिंपल तरीके बता रहा हु । जिन्हे फॉलो करके आप अपने ब्लॉग की traffic 100% बढ़ा सकते हो। ब्लॉग पर अगर traffic नहीं है तो वो किसी काम का नहीं है। वैल्यू उसी की होती है जिसे लोग salute करते है बिलकुल वैसे ही अगर aapke blog पर 100 पोस्ट्स भी है or अच्छा traffic है तो आपका ब्लॉग दूसरे किसी 1500 posts वाले ब्लॉग से better होगा।

मैंने blog traffic पर पहले भी कई post लिख चूका हु। आगे भी लिखता रहूँगा। इन सभी पोस्ट में मैंने blog की traffic बढ़ने के तरीको और उसके बीच में आने वाली problem के बारे में अच्छा सा solution दिया है।

इसके अलावा भी आपको मेरे blog की traffic बढ़ने की और भी बहुत पोस्ट मिल जायेंगे। उसके लिए आपको SEO से related post पढ़ ने पड़ेगे। आपको यहाँ से अपनी वेबसाइट पर traffic बढ़ाने की अच्छी जानकारी मिल जाएगी। अगर कुछ आपको new सीखना है तो Post को last तक पढ़े।

आपको आज यहाँ इस Post पर बहुत ऐसे तरीके बताये जायेगे जिन से आप अपने वेब पर अच्छी High Traffic ला सकोगे। High Traffic लाने के लिए आपको कुछ rules फॉलो करने पड़ेगे। अगर आप Real में अपने blog पर High traffic चाहिए तो प्लीज follow पोस्ट एंड hardwork करो।

Website Blog की Traffic कैसे बढ़ाये Popular तरीके

Blog पर high traffic लाने के लिए क्या कुछ नहीं करते है। लेकिन हमसे एक गलती हो जाती है। हमे ब्लॉग की traffic बढ़ाने की जो भी जानकारी मिलती है। हम उसे Read करते है लेकिन follow नहीं करते। लेकिन आज जो आप पढ़े प्लीज उसे फॉलो करे जिस से आपके वेब पर Traffic बढे और आप तरकी करे।

सबसे बड़ी टिप्स

Use High ranking keywords – इसका मतलब है सबसे ज्यादा search होने वाले Keyword को ध्यान मै रख कर post लिखे।

Make Good articles – सबसे Powerfull पॉइंट है ये की आप Post ऐसे लिखे की लोग एक बार पढ़ कर आपके जबरा Fan हो जाये।

Write maximum words post – Google से traffic पाने के लिए आपको आपकी पोस्ट मै कम से कम 1000 शब्द रखने होंगे और जितने ज्यादा हो सखे उतने words रखे। Google आपके Traffic को इस बात पर भी analysis करता है की आपने कितने शब्द use किये है।

Write shorts but cool posts – आपके लिए यहाँ एक best tips ये है की आप short Post भी लिख सकते है लेकिन उसमे आपको ये ख्याल रखना होगा की आपकी पोस्ट मै बहुत important Points include हो जिस से आपके दर्शक आसानी से समझे और Topic समझ जाये।

Write new topics – हमेशा ऐसे टॉपिक पर लिखना सीखो जिस पर कभी लिखा हुवा नहीं हो मतलब आपकी knowledge नई होनी चाहिए।

Write for readers – Post हमेशा वो ही लिखे जो आपकी audience को पसंद हो।

Write success story – आज लोग उसे बहुत अछि तरह पढ़ते है जो किसी को Motivate करे इसका ये मतलब है की आप अपनी और दूसरे लोगो की Success story को अपनी post मै डालें।

Write social media – आजकल सबसे बड़ा source traffic का Social media है तो हमेशा अपना ब्लॉग social media पर active रखे।

Write income – आपने अपने ब्लॉग से क्या income generate की है ये अपनी audience को बातये जिस से वो hardwork करेंगे।

Ask reader’s – आप अपनी audience से पूछे की उन्हें किस टॉपिक पर पोस्ट चाहिए जिस से वो आपको बता सके की उनको किस पर post चाहिए और पोस्ट उन तक पहुंचाए।

Write most popular content – अपने blogs की सबसे Popular पोस्ट के बारे मै बताये जिस से वो आपकी पोस्ट को अच्छी तरह से पढ़े।

Interview other blogger – दूसरे blogger की लाइफ के बारे मै अपने blog पर Post करे जिस से दर्शको मै एक उत्साह आये।

Use photos – हमेशा अपनी Post मै वो इमेज यूज़ मै ले जो आपके audience का फोकस रखे और अच्छी तरह वो पड़े।

Add social button – अपनी Post मै सोशल शेयरिंग बटन जरूर यूज़ करे जिस से आपके दर्शक उसे सोशल मीडिया पर शेयर कर सके और उसका ये फायदा होगा की आपका traffic बढ़ेगा।

Free stocks images – हमेशा ऐसी इमेज उसे करे जो फ्री हो मतलब Copyrights image यूज़ न करे।

Refurbished Phone क्या होता है

0
Refurbished Phone क्या होता है

हेलो दोस्तों आज हम आपको बताएँगे कुछ नया की Refurbished Phone क्या होते है और ये इतने सस्ते क्यों आते है और इनको लेना सही रहत्ता है या गलत। लेकिन ये जानने से पहले हम आपको Refurbished Phone का मतलब बताएँगे की ये होते क्या है ?

आपके दिमाग मै जो सवाल उठ रहे है उन सबको जवाब पाने क लिए आपको ये पोस्ट अंतिम तक पड़नी पड़ेगी उसके बाद आपके सभी सवालो के जवाब मिल जायेगे।

आज Smartphone का ज़माना आप कही भी देखो सबके पास Smartphone मिलेंगे इसके बहुत कारन है आज सबसे पहले तो Smartphoone आज क दौर मै बहुत आम बात है क्योकि ये आज बहुत सस्ते हो गए है जिस से कोई भी इन्हे खरीद सकता है आराम से। सबसे पहले आज कोई भी Smartphone खरीदता है तो सबसे पहले उसके Specification एंड Price देखता है। और जब यूजर उसकी ढंग से पता कर ले उसके बाद खरीदता है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे फ़ोन क बारे मै बताने जा रहे है जो हक़ीक़त मै महंगा होता है लेकिन Refurbished Phone कहलाता है और प्राइस काम होती है

अगर आप काम पैसो मै अच्छा Smartphone चाहते है तो पोस्ट पूरी पड़े।

Refurbished Phone होता क्या है ?

आज कल ऑनलाइन इतना लोकप्रिय हो गया है की सब ऑनलाइन ही खरीदते है। आज बहुत वेबसाइट है जिन पर आपको Refurbished Phone देखने को मिलेगा जिसकी प्राइस मै ७०% कमी होती है और वही फ़ोन होता है लेकिन आप कम प्राइस देख कर ये सोचते है की ऐसा कैसे मुमकिन है जरूर इसमें कोई प्रॉब्लम है लेकिन Refurbished Phone का कुछ and जहा तक आप उसके बारे मै socho तो आपका दिमाग आपको कुछ गलत होने का अंदाज़ा करता है।

तो आपने बहुत सारे ऑनलाइन साइट्स पर देखा होगा कि वहां पर Refurbished फ़ोन बिक रहा होता है जो नए फ़ोन से काफी कम दाम पर होता है और लोग इसे Buy भी करते हैं और सबसे बड़ा Reason इसे buy करने का यही है की प्राइस कम है। यहां कुछ लोग ऐसे भी होते है की वो सस्ता समझ कर खरीद लेते है लेकिन उनको इसकी हक़ीक़त नहीं पता होता। आइये जानते है की Refurbished Phone होता क्या है?

बहुत ही Simple and Short तरीके से जाने

किसी यूजर ने ऑनलाइन वेबसाइट से कोई Smartphone ख़रीदा उसने उस फ़ोन को यूज़ मै लिया लेकिन उसे लगा इस फ़ोन मै कही न कही कमी है और ये थोड़ा डिफरेंट चल रहा है तो वो यूजर उसे Return करेगा। और जैसे की आजकल सभी ऑनलाइन वेबसाइट की पालिसी होती है की वो return कर लेती है और जब यूजर उसे return कर देता है और जब कम्पनी उसमे मिस्टेक ढूंढ़ती है।

अब जब ऑनलाइन वेबसाइट ने उसे return ले लिया तो वो उस फ़ोन मै mistake ढूंढ़ती है और जब उन्हें ये पता चल जाये की इसमें क्या प्रॉब्लम है तो वो उसे सर्विस center भेज देती है और यूजर को नया फ़ोन दे दिया जाता है। या फिर उसे पैसे वापस कर दिए जाते है जिस से वो कही और से खरीद लेता है।

अब जब वो फ़ोन Service Center गया है तो उसे वापस सही कर दिया जाता है और उसे बेचने के लिए तैयार किया जाता है जिस से फ़ोन तैयार हो जाता है और अब यहाँ सबसे important बात ये है की वो Phone अब नया नहीं है इस वजह से कंपनी उसे नया नहीं बताती और उसका नाम अलग रखती है Refurbished Phone कहलाता है ये फ़ोन। अब आपके ये समझ मै आगया होगा की ये Refurbished Phone किसे कहते है और इसकी प्राइस डाउन होने का यही कारन होता है एंड यही मैं कारण है की उसकी Price कम हो जाती है।

क्या ये Refurbished Phone खरीदना सही है क्या?
अब जब आपको ये पता चल गया की Refurbished Phone क्या होता है तो अब आप अपना दिमाग भी यूज़ कर सकते है क्योकि कंपनी उसे वापस नया बना देती है मतलब एक दम सही कर देती है। अगर आपके पास पैसे की कमी है तो आप हमारे हिसाब से ये Refurbished Phone आपके लिए बहुत अच्छा रहेगा। इसकी प्राइस नए फ़ोन से बहुत कम होती है जिस से ये फ़ोन आसानी से सेल हो जाते है और Refurbished Phone आजकल के दौर के हिसाब से बहुत अच्छा रहता है।

TV TRP क्या होती है सबकुछ जाने

TV TRP क्या होती है सबकुछ जाने

आज हम एक ऐसी चीज़ के बारे मई जानना चाह रहे है जिस पर सभी टीवी Depend है वो है TRP । यह क्या होती है आज जानते है सबसे पहले TRP की फुल फॉर्म जान लेते है TRP = Television Rating Point आगे हम इसके बारे मैं फुल डिटेल मैं बात करते है।

आज के दौर मैं जो टीवी देखते है वो अचे से जानते है trp किसे कहते है । हक़ीक़त मैं TRP किसे कहते है ये जानना है तो पोस्ट अंत तक पड़े। आज हम यहाँ पर आप को TRP की पूरी जानकारी हिंदी मैं देंगे और वो सबकुछ बताये गई क्या इसके फायदे होते है टीवी वालो को।

जैसे की आपने बहुत जगह सुना है की फला चैनल की TRP बढ़ गयी है तो ये TRP क्या होती है जिसको हर न्यूज़ चैनल बढ़ाना चाहता है क्योकि चैनल की डिमांड बढ़ती है और लोग आछे से उस चैनल को यूज़ करते है जिस से उसकी इनकम बढ़ती है और उसकी पॉपुलैरिटी भी बढ़ती है कुछ न्यूज़ चैनल TRP के लिए कुछ भी देखा देते है और वो होनी TRP को अच्छे से रखते है और उसका हमेशा बढ़ाने मैं लगे रहते है ।

सबसे पहले Full form of TRP?
TRP = Television Rating Point

ऊपर जो हमने लिखा है उस से आपको कुछ आईडिया हो गया होगा की TRP क्या होता है एंड इसका मतलब क्या होता है और इसका रीज़न क्या है बढ़ने का। TRP = Television Rating Point ये इसकी फुल फॉर्म है आगे हम आपको इसके बारे मैं बहुत अच्छे से बताएँगे।

TRP = Television Rating Point यह एक ऐसा उपकरण है जो TRP को अनुमान लगता है और सब तक उस चेंनेल के बारे मैं बताता है जैसे की कोनसा channel सबसे ज्यादा देखा गया है और उस चैनल का कोनसा Serial सबसे ज्यादा देखा जाता है मतलब की कितनी पब्लिक उस चैनल पर अपना टाइम गुजारती है जिस से उसकी वैल्यू बढ़ती है एंड बाकि चैनल उस से पीछे चले जाते है। इससे लोगो की पसंद का सीरियल सूचकांक माना जाता है और ये स्पष्ट हो गया की ये निर्धारित किया जाता है Channel सबसे ज्यादा कोनसा Popular है।

TRP का बहुत बड़ा उपयोग ये भी है की ये यह बता देता है की कोनसा सीरियल सबसे ज्यादा देखा जाता है और उसकी क्या इनकम है।

विज्ञापन देने वाले लोग TRP के हिसाब से अपना प्रोडक्ट का एड्स उस चैनल पर देते है जहा सबसे ज्यादा TRP होगी वहां विज्ञापन जायदा लोग देखत है औ अच्छे से कामा लेते है

TRP की गणना एंड उसका पूरा पता करने के लिए एक डिवाइस का उपयोग किया जाता है जिस से किसी भी चैनल का पता लग जाता है की ये इस चैनल की TRP क्या है और क्या इनकम करता है और इसकी पॉपुलैरिटी क्या है और इस पर विज्ञापन देने का क्या फायदा है और इसमें क्या लोगो को फायदा है।,

TRP एक ऐसी वैल्यू है जो बहुत अच्छे से पता की जाती है और इसकी नंबरो की संख्या पॉइंट्स मैं होती है और इस का सबसे ज्यादा फयदा advertisment को मिलता है।

इस Device को कहा क्या जाता है तो ये पॉइंट बहुत पहले बताना चाहिए था लेकिन अभी बता रहा हु की इसका नाम People’s Meter है। और ये People’s Meter TRP मापता है और चैनल वालो को और advertisment वालो को बहुत फायदा होता है की कब कार्यकर्म को प्रसारित करे जिस से उनकी TRP मैं वर्दी हो और बहुत लोगो के दवारा देखा जाये और इस से उनके Product की सेल मैं बढ़ोतरी हो और वो उनके इनकम का जरिया बने।

इस उपकरण का सबसे अच्छा काम ये है की इसमें पता लग जाता है की Advertisment कितने समय देखा एंड उसका यूज़ कितने समय तक हुवा और सीरियल कितनी देर दिखाया गया। People’s Meter एक बहुत ज़बरदस्त उपकरण है जो इतने बड़े काम को अंजाम देता है और उसका परिणाम देता है।

People’s Meter का एक और काम होता है वो हर समय का डाटा इकट्ठा करके के Monitoring Team (Indian Television Audience Measurement) तक पहुंचा देता है जिस से वो अपनी infornmation बड़ा लेते है।

जिस Monitoring टीम को People’s meter डाटा देता है फिर वो उस डाटा को एनालिसिस करता है और उसके बाद उसको ये तय करता है की किस चैनल की क्या TRP है और उस पर कितना फायदा होगा Advertisment को और कोनसा Serial कितनी देर देखा जाता है और उसको पब्लिक कर दिया जाता है।

इसकी प्रोसेस बहुत आसान है और ये Google Analytics की तरह ही काम करता है जिस से ये पता चल जाता है ट्रैफिक कहा से आरहा और कौन कितना समय बिता रहा है और भी बहुत चीज़े Google Analytics बता देता है और Google Analytics वेबसाइट पर लगाया जाता है जिस से यूजर का पता चल जाता है की यूजर उसकी वेबसाइट को कैसे यूज़ कर रहे है और उसको ट्रैफिक बढ़ाने मैं सहयोग मिलता है। Youtuber भी अपने यूट्यूब चैनल मैं Google Analytics का यूज़ करते है और जिस से उस Youtuber को पता चलता की कितने यूजर आ रहे है।

आज आपने कुछ नया सीखा और अब उस नए को दूसरे तक पहुंचाये जिस से आपकी Knowledge और बढ़ जाये । और कुछ नया जानने के लिए हमारे ब्लॉग को यूज़ करते रहे। आपको कुछ जानना हो तो कमेंट करे और बताये हमें की आपको क्या अच्छा नहीं लगा। TRP का सबसे बड़ा फायदा है टीवी चैनल को वो ये है की उसे विज्ञापन का पैसा बहुत ज्यादा मिलता है मतलब की जिस चैनल की जितनी ज्यादा TRP उसकी उतनी ज्यादा इनकम होगी।